October 27, 2021

Breaking News

गुड़गांव में डेंगू का डंक: पिछले दो दिन में डेंगू के 10 नए केस मिले, कुल केस बढ़कर 28 हुए

गुड़गांव में डेंगू का डंक: पिछले दो दिन में डेंगू के 10 नए केस मिले, कुल केस बढ़कर 28 हुए


गुरुग्राम3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लारवा खत्म करने के लिए 700 लीटर काला तेल व 165 जगह पर डाली गंबोझिया मछली
  • पटौदी क्षेत्र में एक, डीएलएफ, वजीराबाद, सेक्टर-62 व अन्य कई पॉश सोसाटियों में डेंगू के केस मिले

गुड़गांव में डेंगू के केस तेजी से बढ़ने लगे हैं। पिछले दो दिन में ही 10 नए केस मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। हालांकि अभी तक डेंगू से किसी पेशेंट की जिला में कोई मौत नहीं हुई है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग बढ़ते मामलों को चिंतित है। जिला में दो दिन में मिले नए डेंगू के मामले अलग-अलग क्षेत्रों से हैं। जिनमें पटौदी क्षेत्र में एक, डीएलएफ, वजीराबाद, सेक्टर-62 व अन्य कई पॉश सोसाटियों में डेंगू के केस मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने सेम्पलिंग का काम शुरू कर दिया है। सबसे अधिक डेंगू के मामले न्यू गुड़गांव में मिले हैं, जहां देखा जा रहा है कि जलभराव कहां-कहां है, जिसमें मच्छर पनप रहे हैं। दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के पास नागरिक अस्पताल में डेंगू मरीजों के लिए केवल 25 बेड की व्यवस्था है, जो नाकाफी है। इस तरह केस बढ़े तो कभी भी ये 25 बेड फुल हो सकते हैं।

गुड़गांव में पिछले दो महीने में जहां डेंगू के 18 केस सामने आए थे, वहीं पिछले दो दिन में ही दस नए केस मिले हैं। इनमें से अधिकतर केस न्यू गुड़गांव में मिले हैं। जिनमें डीएलएफ, साउथ सिटी, वजीराबाद, सेक्टर-62, पटौदी, झाड़सा गांव आदि स्थान शामिल हैं। इन स्थानों पर स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने सेम्पलिंग शुरू कर दी है। इसके अलावा एंटी लारवा की टीमें भी काम कर रही हैं। ये सभी केस ऐसे स्थानों पर पाए गए हैं, जलभराव हो रखा है और अभी तक एंटी लारवा की टीमें नहीं पहुंची थी। जिससे स्वास्थ्य विभाग की टीमें अब सक्रिय हो गई हैं।

दो महीने में लार्वा मिलने पर 10 हजार से अधिक को नोटिस

जिला मलेरिया विभाग ने पिछले दो महीने में डोर-टू डोर एंटी लार्वा निरीक्षण कर अब तक 10 हजार से अधिक लोगों को लार्वा मिलने पर नोटिस दिया है। साथ ही खड़े पानी में मच्छर ना पनपने के लिए 700 लीटर काला तेल डाला जा चुका है। इसके अलावा जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से 165 स्थानों पर गंबूजिया मछली भी पानी छोड़ी गई हैं। जिससे कि मच्छरों को पनपने से रोका जा सके।

मच्छरों को पनपने से ऐसे रोकता है काला तेल

स्वास्थ्य विभाग ने मच्छरों की रोकथाम के लिए काले तेल का विकल्प बनाया है। इस साल विभाग दवा से ज्यादा काले तेल को तवज्जो दे रहा है। जोहड़ों, तालाबों, गड्ढों व खाली प्लाटों में काला तेल डाला जा रहा है। पानी पर तैरती तेल की परत नीचे पनपने वाले मच्छरों के अंडे व लारवा को ऑक्सीजन नहीं पहुंचने देती। इससे उनका जीवन चक्र टूटा जाता है और मच्छर नहीं बन पाता। लोग भी जहां पानी खड़ा देखें वहीं पर काला तेल डाल दें। जहां जानवर पानी पीने का डर होता है वहां पर गंबूजिया मछली पानी में डाली जा रही हैं।

मच्छरों से बचाव के लिए सबसे बेहतर मच्छरदानी

गुड़गांव में स्वास्थ्य विभाग के पास लोगों को जागरूक करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। जबकि डाक्टरों की मानें तो मच्छरों से बचना है तो मच्छरदानी लगाकर सोए। इसके अलावा दूसरा कोई विकल्प इतना कारगर साबित नहीं हो रहा है।

खबरें और भी हैं…

Doonited Affiliated: Syndicate News Hunt

Source link

Read Also  Gunmen dressed as lawyers kill gangster inside Delhi Rohini court, 2 attackers dead in police action

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: