September 24, 2021

Breaking News

उत्तराखंड के पर्यटन नक्शे पर ‘खगोल गांव’ के रूप में उभरेगा बेनीताल

उत्तराखंड के पर्यटन नक्शे पर ‘खगोल गांव’ के रूप में उभरेगा बेनीताल


चमोली. उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) की मंडल घाटी (Mandal Valley) के घने जंगलों के बीच माता अनसूया (Mata Anasuya) का भव्य मंदिर है, जो कि अपनी खूबसूरती के साथ निसंतान दंपतियों की मनोकामना पूरी करने के लिए देशभर में पहचान रखता है. यही नहीं, संतानदायिनी के रूप में प्रसिद्ध माता अनसूया के दरबार में सालभर निसंतान दंपति संतान कामना के लिए पहुंचते हैं. माना जाता है कि शक्ति सिरोमणि माता अनसूया के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता है.

माता अनसूया मंदिर के पुजारी प्रवीन सैमवाल के मुताबिक, माता न सिर्फ निसंतान लोगों की कामनापूर्ण करती है बल्कि देवता भी माता अनसूया को नमन करते हैं. बता दें कि प्रकृति की गोद में बसा यह स्थान चारों ओर से ऊंची-ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं से सुशोभित है, जोकि हर किसी का मनमोह लेता है.

ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने ली थी माता की परीक्षा

अनसूया मंदिर के पुजारी प्रवीन सैमवाल ने बताया कि यह स्‍थान बद्री और केदारनाथ के बीच स्थित है. उन्‍होंने बताया कि महर्षि अत्रि मुनि की पत्नी अनसूया की महिमा जब तीनों लोक में होने लगी तो पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के अनुरोध पर परीक्षा लेने ब्रह्मा, विष्णु, महेश पृथ्वीलोक पहुंचे थे. इसके बाद साधु भेष में तीनों ने अनसूया के सामने निर्वस्त्र होकर भोजन कराने की शर्त रखी थी. दुविधा की इस घड़ी में जब माता ने अपने पति अत्रि मुनि का स्मरण किया तो सामने खड़े साधुओं के रूप में उन्हें ब्रह्मा, विष्णु और महेश खड़े दिखाई दिए. इसके बाद उन्‍होंने अपने कमंडल से जल निकालकर तीनों साधुओं पर छिड़का तो वह छह महीने के शिशु बन गए थे. इसके बाद माता ने शर्त के मताबिक, न सिर्फ उन्‍हें भोजन कराया बल्कि स्‍तनपान भी कराया था. वहीं, पति के वियोग में तीनों देवियां दुखी होने के बाद पृथ्वीलोक पहुंचीं और माता अनसूया से क्षमा याचना की. फिर तीनों देवों ने भी अपनी गलती को स्वीकार कर माता की कोख से जन्म लेने का आग्रह किया. यही नहीं, माता को दो वरदान दिए. इससे उन्‍हें दत्‍तात्रेय, दुर्वासा ऋषि और चंद्रमा का जन्‍म हुआ, तो दूसरा वरदान माता को किसी भी युग में निसंतान दंपित की कोख भरने का दिया. यही नहीं, वजह है कि यहां जो कोई भी संतान की कामना के लिए आता है, वह खाली हाथ नहीं रहता.

Mata Anasuya, Chamoli, Badrinath, Kedarnath, childless couple, Uttarakhand, Mandal Valley

Read Also  चयन आयोग की विश्वसनीयता सरकार जांच कराए : मोर्चा
माता अनसूया मंदिर के प्रमुख पुजारी प्रवीन सैमवाल.

अनसूया ट्रस्‍ट के उपाध्‍यक्ष विनोद राणा ने कहा कि मैं करीब 22 साल से मां की सेवा कर रहा हूं. माता के दरबार से कोई खाली हाथ लौटकर नहीं जाता. जबकि घने जंगलों के बीच बसे मंदिर परिसर को लेकर उन्‍होंने कहा कि यहां भालू और अन्‍य जंगली जानवर जरूर रहते हैं, लेकिन आज तक किसी भक्‍त के साथ कोई हादसा नहीं हुआ. जबकि मंदिर की सुरक्षा को लेकर कहा कि यहां क्षेत्रपाल की अहम भूमिका रहती है और उनके 50 से ज्‍यादा रूप हैं.

Mata Anasuya, Chamoli, Badrinath, Kedarnath, childless couple, Uttarakhand, Mandal Valley

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट के समाजसेवी ऋषि कुमार विश्‍नाई और अनसूया ट्रस्‍ट के उपाध्‍यक्ष विनोद राणा.

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट ने की ये अपील

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट चलाने वाले समाजसेवी ऋषि कुमार विश्‍नाई ने बताया कि माता के दरबार में वैसे तो हर किसी को आशीर्वाद मिलता है, लेकिन यहां की खास मान्‍यता निसंतान दंपति की गोद भरने के कारण है. उन्‍होंने कहा कि यहां जो भी आता है मां उसकी मुराद पूरी जरूर करती है. इसके अलावा विश्‍नाई ने बताया कि माता अनसूया परिसर में भक्‍तों के रुकने या आराम करने का कोई खास इंतजाम नहीं है, इसलिए हम धर्मशाला बनाने के साथ एक गौशाला का निर्माण भी कर रहे हैं, जो कि पूरा होने के करीब है. वहीं, उन्‍होंने देशभर के लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप सब माता के दर्शन करने के लिए चमोली के मंडल घाटी के इस पावन मंदिर में जरूर पदारें.

Chamoli, Gopeshwar, Atri Muni Sthal, चमोली, गोपेश्‍वर, अत्रि मुनि स्‍थल

Read Also  निर्माणाधीन विकास कार्यों को समयबद्धता एवं गुणवत्ता से पूर्ण करना सुनिश्चित करें
माता के भक्‍त ने अत्रि मुनि स्‍थल को बताया बेहद मनमोहक.

वहीं, अक्‍सर माता अनसूया के दर्शन करने गोपेश्‍वर से आने वाले भक्‍त विजय साहू ने कहा कि मंदिर के अलावा अत्रि मुनि का स्‍थान भी बेहद खास है. उन्‍होंने कहा, ‘ मंडल से पांच किलोमीटर माता का मंदिर है. जबकि उससे डेढ़ किलोमीटर आगे अत्रि मुनि की गुफा है, जोकि बेहद खूबसूरत होने के साथ कई सारी धार्मिक मान्‍यताएं रखती है. यहां सकारात्‍मक ऊर्जा का प्रभाव बहुत अधिक होता है, तो यह अमृत गंगा का उद्गम स्थल भी है. यही नहीं, आप यहीं से रुद्रनाथ भी जा सकते हैं.’

जानें माता की पूजा की विधि

निसंतान दंपति की कोख भरने के लिए माता के मंदिर की पहचान है. यहां संतान की चाह रखने वालों को शाम तक पहुंचना होता है. इसके बाद उन्‍हें पूजापाठ के बाद रात भर मंदिर में ही बैठाना होता है. इस दौरान अनसूया माता महिला को दर्शन देती हैं. इसके बाद महिला वहां से उठकर स्‍नान वगैराह करती है और फिर सूर्यादय के बाद एक बार फिर पुजारी पूजा करवाते हैं. इस दौरान जो पूजा सामान आप चढ़ाते हैं, उसमें से श्रीफल समेत कुछ चीजें आपको वापस मिलती हैं,जिन्‍हें आप अपने घर में मंदिर में जगह देते हैं. यही नहीं, जब आपकी मुराद पूरी हो जाती है, तो आप फिर से माता के दर्शन करने जा सकते हैं.

Read Also  हडको में हिंदी राजभाषा पखवाड़ा आयोजित किया गया

ऐसे पहुंच सकते हैं माता के मंदिर

चमोली जिले की मंडल घाटी तक वाहन से आप पहुंच सकते हैं. इसके बाद अनसूया मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको पैदल यात्रा करनी होगी. अगर आप उत्तराखंड के बाहर से आ रहे हैं तो ऋषिकेश तक ट्रेन से पहुंच सकते हैं. इसके बाद श्रीनगर के रास्‍ते गोपेश्वर से होते हुए मंडल तक बस और टैक्‍सी से पहुंच सकते हैं. फिर मंडल से माता के मंदिर तक पांच किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई है. प्रकृति की गोद में बसा यह स्थान चारों ओर से ऊंची-ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं से सुशोभित है, तो इसके नजदीक ही अत्रि मुनि आश्रम स्थित है, जो कि अमृत गंगा का उद्गम स्थल भी है.

Doonited Affiliated: Syndicate News Hunt

Source link

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: